Connect with us

General

Chetak Book Subhash Charan Best Rajasthan GK Book

Published

on

Chetak book Subhash Charan RAJASTHAN GK BEST BOOK

Chetak Book Subhash Charan: Rajasthan GK के लिए सुभाष चारण द्वारा बहुत ही बेहतरीन किताब लॉन्च की गई | Subhash Charan राजस्थान जनरल नॉलेज के महान ज्ञाता है, इसका आप अंदाजा उनके पढ़ाने के तरीके से लगा सकते है और इनकी कोचिंग से हजारों युवाओं को अपनी मंजिल हासिल करने में सहायता मिली है |

Chetak BOOK Review by Subhash Charan ( राजस्थान GK की चेतक किताब)

ये किताब सुभाष चारण और राकेश बेल द्वारा लिखी गई है |

इस किताब में आपको राजस्थान के भूगोल और अर्थव्यवस्था से संबंधित सभी जानकारी मिल जाएगी |

जहा तक सुभाष चारण का कहना है इस बुक को पढने के बाद आपको राजस्थान gk में भूगोल के लिए कही और जाने की जरूरत नहीं है |

Chetak book बहुत ही सरल भाषा में लिखी गयी है ये तो आपको Subhash Charan के बोलने से ही पता चल गया होगा, Rajasthan Geography के लिए Subhash Charan की किताब अनमोल खजाना है |

👉 Best RAS Books – RPSC आरएएस प्री+मैन्स बुक list 👌

सरल भाषा के साथ साथ महत्वपूर्ण तथ्य जो भारत और विश्व को जोड़ते है को भी भलीभांति लिखा और समझाया गया है |

सुभाष चारण द्वारा चेतक किताब में टॉपिक वाइज सारे सिलेबस को कवर किया गया है, इसमें आपको एक दुसरे से समिलित जोड़ देखने को मिलेगा, जिससे आप काफी आसानी से याद रख पाओगे |

Subhash Charan’s Chetak Book by RBD PUBLICATION

ये किताब RBD Publication द्वारा छापी गई है जो पहले भी राजस्थान और RPSC से संबंधित किताबे बाज़ार में उपलब्ध करा चूका है |

आपको ये किताब हर छोटी बड़ी बुक स्टॉल (किताब विक्रेता) के पास मिल जाएगी, इसकी कीमत जगह के हिसाब से थोड़ी बहुत कम ज्यादा हो सकती है |

कही ये 150, 200 से लेकर 350 और 400 तक मिल रही है |

अगर आप कही दूर दराज के इलाके में रहते है जहा आपको ये किताब नहीं मिल रही तो आप इसको अमेज़न से ऑनलाइन भी मंगवा सकते है |

अमेज़न से आपके घर पर ये किताब पहुंचा दी जाएगी, इसके लिए आप अमेज़न के नीचे दिए गये लिंक पर जाकर ख़रीद सकते है 

BUY NOW FROM AMAZON
CHETAK BOOK SUBHASH CHARAN

और पढ़े 

EWS CERTIFICATE IN RAJASTHAN 

धारा 370 क्या है ? जम्मू और कश्मीर 

संविधान संसोधन सम्पूर्ण जानकारी 

Continue Reading
4 Comments

4 Comments

  1. Harendra Kurdiya

    01/03/2020 at 3:49 PM

    very nice book

  2. Mahesh Yadav

    03/03/2020 at 11:21 PM

    Mujhe raj police ki book chahiye subhash sir ki

  3. Mukesh

    29/03/2020 at 10:07 AM

    Chetak book pdf

  4. Naresh kumar meena

    08/04/2020 at 6:36 PM

    Sir ji chetak book ka pdf download nhi ho rha….??

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

General

पिता की जायदाद पर बेटा बेटी का बराबर हक़: सुप्रीमकोर्ट हिन्दू उतराधिकारी कानून

Published

on

सुप्रीमकोर्ट ने पिताजी की पैत्रिक सम्पति पर हिन्दू उतराधिकारी अधिनियम कानून के तहत बेटा और बेटी के लिए बराबर हक़ का फैसला सुनाया है |

सुप्रीमकोर्ट ने साफ़ कर दिया है की अपने पिताजी की सम्पति में बेटी का भी बराबर का हक है भले ही उनके पिताजी की मर्त्यु 2005 में कानून लागु होने से पहले हो गयी हो |

लेकिन 20 दिसम्बर 2004 से पहले अगर सम्पति की बिक्री, वसीयत या किसी अन्य कारण से समाप्त कर दी गई है तो यह लागु नहीं होगा

पिता की जायदाद: हिन्दू उतराधिकारी अधिनियम कानून

हिन्दू उतराधिकारी अधिनियम कानून 1956 मैं लाया गया इसका मुख्य उद्देश्य हिंदुओं के पैतृक संपत्ति के बंटवारे को लेकर था ।

मूल-कानून: इस कानून के तहत अगर किसी पिता की मृत्यु बिना वसीयत बनाए हो जाती है तो उसकी संपत्ति पर उसके उत्तराधिकारीयों का हक होगा

संसोधन: इस अधिनियम को 2005 में दोबारा संशोधित किया गया इसका मुख्य उद्देश्य 1956 के कानून में रहे लैंगिक भेदभाव को मिटाना था, बेटा और बेटी को बराबर हक दिया गया

कवरेज: इस कानून में हिंदू धर्म के अंतर्गत हिंदू बौद्ध सीख जैन ब्रह्म समाज वीरशैव लिंगायत प्रार्थना समाज आर्य समाज के अनुयाई भी आते हैं और अन्य ऐसे व्यक्ति जो मुस्लिम क्रिश्चियन पारसी या यहूदी न हो उनको भी इस अधिनियम के तहत जोड़ा गया है ।

इस कानून के तहत हिंदू परिवार की पुत्री जन्म से ही अपने समय के अधिकार से उसी रीती से सहदायक बन जाएगी जैसे पुत्र होता है

सहदायक की संपत्ति में उसे वही अधिकार प्राप्त होंगे जो उसे तब प्राप्त हुए होते जब वह पुत्र होता

हिंदू वारिस संपति में सुप्रीम कोर्ट का नया ऑर्डर 2020

क्योंकि यह नियम 2005 में बन चुका था तो 2020 में इस पर सुप्रीम कोर्ट का दोबारा फैसला सुनाने की नौबत क्यों आई?

प्रकाश बनाम फूलमती 2016 का केस और सुमन सुरपुर बनाम अमन 2018 का केस सोल्व करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने तीन सदस्य बेंच का गठन किया था

इस तीन सदस्य बेंच ने 2020 में अब यह फैसला सुनाया है की पिता की मृत्यु 2005 से पहले हो गई हो तो भी बेटी को बराबर का हक मिलेगा उसके हक को वंचित नहीं किया जा सकता ।

Continue Reading

General

UPSC 2019 Final Result Check Merit First Rank Pradeep Singh RajHindi

Published

on

UPSC (Union Public Service commission) ने यूपीएससी 2019 का फाइनल रिजल्ट घोषित कर दिया है

UPSC 2019 फाइनल में प्रदीप सिंह ने फर्स्ट रैंक हासिल की है |

UPSC 2019 का लिखित पेपर सितम्बर 2019 में हुआ था और इंटरव्यू फरवरी 2020 में आयोजित किया गया था |

इसमें कुल 829 अभ्यर्थी को सेलेक्ट किया गया है |

GENERAL – 304
EWS – 78
OBC – 251
SC – 129
ST – 69

upsc 2019 final result pdf dowload

UPSC 2019 Topper List

1 6303184 PRADEEP SINGH

2 0834194 JATIN KISHORE

3 6417779 PRATIBHA VERMA

4 0848747 HIMANSHU JAIN

5 0307126 JEYDEV C S

Download: UPSC 2019 Final Result PDF Download

Continue Reading

General

भारत की जलवायु – मानसून और मौसम RAS/UPSC

Published

on

भारत की जलवायु: भारत की जलवायु मे अनेक तरीके की विविधता पाई जाती है हर तरीके की भू-आकृति यहां पर देखी जा सकती है जैसे पहाड़ पठार पर्वत मैदान नदियां पश्चिमी घाट पूर्वी घाट थार का रेगिस्तान आदि शामिल है।

जलवायु किसे कहते हैं?

दीर्घकालीन समय में वायुमंडलीय पवनो के बदलाव को ही जलवायु कहते हैं । अगर यही प्रक्रिया छोटे अंतराल पर होती है तो उसे मौसम कहा जाता है ।

भारत देश मुख्यतः दक्षिणी-पश्चिमी मानसून पर आधारित है, यहां से उठने वाली पवने ही पूरे भारत में वर्षा का जरिया बन पाती है ।

भारत में मानसूनी जलवायु:

भारत में मुख्यतः चार ऋतु होती है जिसमें मौसम का आगमन मौसम का लौटना शीतकाल और ग्रीष्म काल शामिल है ।

जून से दिसंबर तक मौसमी हवाएं दक्षिण पश्चिमी के हाई प्रेशर से से उत्तर पूर्व के लो प्रेशर की तरफ बहती है और अपने साथ आद्रता ले जाती है जो मुख्य रूप से भारत में बरसात का कारण बनता है ।

दिसंबर से मई के बीच में भारत में सर्दी ऋतु होती है इस समय मौज में हवाएं उत्तर पूर्व के हाई प्रेशर से दक्षिण पश्चिम के लो प्रेशर की तरफ बहती है ।

भारत की जलवायु के मानसून सिद्धांत:

  1. थर्मल कांसेप्ट – हेले 1686
  2. डायनामिक/एयर मास थ्योरी फोन 1951
  3. जेट स्ट्रीम थ्योरी- पी कोटेश्वर
  4. मोनेक्स थ्योरी

भारत में मानसून का प्रारंभ:

भारत में दक्षिण पश्चिम मानसून का प्रारंभ निम्न कारणों से होता है

  1. उपोषण जेट स्ट्रीम के 2:00 से एक में परिवर्तन होने पर
  2. 66 डिग्री ईस्ट विषुवत में निम्न दाब 2 क्षेत्र के एक में परिवर्तन होने पर
  3. मालाबार तट पर पर बने निम्न दाब के आगे बढ़ने पर

राजस्थान में वर्षा कम क्यों होती है?

राजस्थान में कम वर्षा होने का मुख्य कारण यहां की भौगोलिक स्थिति है जिसके निम्न कारण है

  1. मानसूनी हवाओं का अरावली पर्वतमाला के समांतर बहने के कारण
  2. अरावली पर्वतमाला कि कम हो जाए जिससे मानसूनी पवनो को आगे बढ़ने से कोई रुकावट नहीं है
  3. यहां पर पाई जाने वाली तापीय विलोमता के कारण

Continue Reading
error: Content is protected !!