Connect with us

General

सरकारी छुट्टी 2020 राजस्थान – बैंक, सरकारी स्कूल, ऑफिस राजस्थान 2020

Published

on

Sarkari chhutti Rajasthan holiday list school bank

प्रधानमंत्री मोदी ने कोरोना वायरस के बढ़ते प्रभाव को देखते हुए lockdown 3.0 पुरे भारत में 17 मई 2020 तक सरकारी छुट्टी की घोषणा की, ये नियम सभी स्कूल, कॉलेज, कोचिंग सेंटर, जिम, सिनेमाघर एवं थियेटर आदि पर लागू होंगे |

कोरोना पर बैंक की छुट्टी (आज स्कूल की छुट्टी)

जयपुर: कोरोना वायरस जिस तेजी से फैल रहा है उसको ध्यान में रखकर एहतियात के तौर पर मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत ने 13 मार्च से राज्य के सभी स्कूल, कॉलेज, कोचिंग सेंटर, जिम, सिनेमाघर एवं थियेटर आदि को 17 मई तक बंद रखने के निर्देश दिए हैं।

सम्पूर्ण भारत को 3 ज़ोन में बांटा गया है 1. ग्रीन ज़ोन 2. ऑरेंज ज़ोन 3. रेड ज़ोन

ग्रीन और ऑरेंज जोन में 4 मई से कुछ छूट दी गई है और रेड ज़ोन में अभी भी पाबंदी है।

इस अवधि में आयोजित होने वाले म्यूजिक इन द पार्क तथा नाटक मंचन जैसे कार्यक्रम भी स्थगित रहेंगे

राज्य सरकार की मीटिंग में ये फैसला UN और WHO की कोरोना को लेकर एडवाइजरी जारी करने के बाद लिया गया है, WHO ने इसे महामारी घोषित किया है |

हालाँकि स्कूल और कॉलेजों में चल रही बोर्ड परीक्षाओं पर कोई रोक नहीं होगी। साथ ही, मेडिकल तथा नर्सिंग कॉलेज में कार्य संचालन सामान्य रूप से जारी रहेगा।

श्री अशोक गहलोत की कोरोना को लेकर आमजन से अपील:

आमजन के स्वास्थ्य को लेकर मुख्यमंत्री ने अपील की है की भीड़भाड़ वाले इलाके में कम से कम जाने का प्रयास करे |

जहाँ तक हो सके अपने शादी पार्टी जैसे फंक्शन को छोटा रखे और सार्वजनिक परिवहन का कम प्रयोग करे |

सरकारी छुट्टी 2020 राजस्थान

2020 में होने वाली सभी सरकारी छुटिया: इन सभी दिन राजस्थान और भारत में सरकारी स्कूल की छुटी, बैंक की छुटी, सरकारी दफ्तर और ऑफिस की छुटी रहेगी

जनवरी 2020 से दिसंबर 2020 तक छुट्टी डेट कैलेंडर

तारीखदिनछुट्टियां
1 जनवरीबुधवारन्यू ईयर
2 जनवरीगुरूवारगुरु गोबिंद सिंह जयंती
26 जनवरीरविवारगणतंत्र दिवस
21 फरवरीशुक्रवारमहाशिवरात्रि
10 मार्चमंगलवारहोली
25 मार्चबुधवारउगादी
2 अप्रैलगुरूवारराम नवमी
6 अप्रैलसोमवारमहावीर जयंती
10 अप्रैलशुक्रवारगुड फ्राइडे
14 अप्रैलमंगलवारअंबेडकर जयंती
25 अप्रैलशनिवारमहर्षि परशुराम जयंती
24 मईरविवारईद उल-फ़ित्र
25 मईसोमवारमहाराणा प्रताप जयंती
31 जुलाईशुक्रवारईद-उल-अधा (बकरीद)
3 अगस्तसोमवाररक्षा बंधन
11 अगस्तमंगलवारजन्माष्टमी
15 अगस्तशनिवारस्वतंत्रता दिवस
28 अगस्तशुक्रवाररामदेव जयंती
28 अगस्तशुक्रवारतेजा दशमी
30 अगस्तरविवारमुहर्रम
2 अक्टूबरशुक्रवारमहात्मा गांधी जयंती
17 अक्टूबरशनिवारनवरात्रि
24 अक्टूबरशनिवारमहाष्टमी
26 अक्टूबरसोमवारविजय दशमी
30 अक्टूबरशुक्रवारमिलाद-उन-नबी
14 नवंबरशनिवारदिवाली
15 नवंबररविवारदिवाली / दीपावली छुट्टियां
16 नवंबरसोमवारभाई दूज
30 नवंबरसोमवारगुरु नानक जयंती
25 दिसंबरशुक्रवारक्रिसमस

Rajasthan सरकार हॉलिडे कैलेंडर

Continue Reading
1 Comment

1 Comment

  1. Pingback: International Labour Day in Hindi अंतरराष्ट्रीय मजदूर दिवस Quotes 2020 | RajHindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

General

पिता की जायदाद पर बेटा बेटी का बराबर हक़: सुप्रीमकोर्ट हिन्दू उतराधिकारी कानून

Published

on

सुप्रीमकोर्ट ने पिताजी की पैत्रिक सम्पति पर हिन्दू उतराधिकारी अधिनियम कानून के तहत बेटा और बेटी के लिए बराबर हक़ का फैसला सुनाया है |

सुप्रीमकोर्ट ने साफ़ कर दिया है की अपने पिताजी की सम्पति में बेटी का भी बराबर का हक है भले ही उनके पिताजी की मर्त्यु 2005 में कानून लागु होने से पहले हो गयी हो |

लेकिन 20 दिसम्बर 2004 से पहले अगर सम्पति की बिक्री, वसीयत या किसी अन्य कारण से समाप्त कर दी गई है तो यह लागु नहीं होगा

पिता की जायदाद: हिन्दू उतराधिकारी अधिनियम कानून

हिन्दू उतराधिकारी अधिनियम कानून 1956 मैं लाया गया इसका मुख्य उद्देश्य हिंदुओं के पैतृक संपत्ति के बंटवारे को लेकर था ।

मूल-कानून: इस कानून के तहत अगर किसी पिता की मृत्यु बिना वसीयत बनाए हो जाती है तो उसकी संपत्ति पर उसके उत्तराधिकारीयों का हक होगा

संसोधन: इस अधिनियम को 2005 में दोबारा संशोधित किया गया इसका मुख्य उद्देश्य 1956 के कानून में रहे लैंगिक भेदभाव को मिटाना था, बेटा और बेटी को बराबर हक दिया गया

कवरेज: इस कानून में हिंदू धर्म के अंतर्गत हिंदू बौद्ध सीख जैन ब्रह्म समाज वीरशैव लिंगायत प्रार्थना समाज आर्य समाज के अनुयाई भी आते हैं और अन्य ऐसे व्यक्ति जो मुस्लिम क्रिश्चियन पारसी या यहूदी न हो उनको भी इस अधिनियम के तहत जोड़ा गया है ।

इस कानून के तहत हिंदू परिवार की पुत्री जन्म से ही अपने समय के अधिकार से उसी रीती से सहदायक बन जाएगी जैसे पुत्र होता है

सहदायक की संपत्ति में उसे वही अधिकार प्राप्त होंगे जो उसे तब प्राप्त हुए होते जब वह पुत्र होता

हिंदू वारिस संपति में सुप्रीम कोर्ट का नया ऑर्डर 2020

क्योंकि यह नियम 2005 में बन चुका था तो 2020 में इस पर सुप्रीम कोर्ट का दोबारा फैसला सुनाने की नौबत क्यों आई?

प्रकाश बनाम फूलमती 2016 का केस और सुमन सुरपुर बनाम अमन 2018 का केस सोल्व करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने तीन सदस्य बेंच का गठन किया था

इस तीन सदस्य बेंच ने 2020 में अब यह फैसला सुनाया है की पिता की मृत्यु 2005 से पहले हो गई हो तो भी बेटी को बराबर का हक मिलेगा उसके हक को वंचित नहीं किया जा सकता ।

Continue Reading

General

UPSC 2019 Final Result Check Merit First Rank Pradeep Singh RajHindi

Published

on

UPSC (Union Public Service commission) ने यूपीएससी 2019 का फाइनल रिजल्ट घोषित कर दिया है

UPSC 2019 फाइनल में प्रदीप सिंह ने फर्स्ट रैंक हासिल की है |

UPSC 2019 का लिखित पेपर सितम्बर 2019 में हुआ था और इंटरव्यू फरवरी 2020 में आयोजित किया गया था |

इसमें कुल 829 अभ्यर्थी को सेलेक्ट किया गया है |

GENERAL – 304
EWS – 78
OBC – 251
SC – 129
ST – 69

upsc 2019 final result pdf dowload

UPSC 2019 Topper List

1 6303184 PRADEEP SINGH

2 0834194 JATIN KISHORE

3 6417779 PRATIBHA VERMA

4 0848747 HIMANSHU JAIN

5 0307126 JEYDEV C S

Download: UPSC 2019 Final Result PDF Download

Continue Reading

General

भारत की जलवायु – मानसून और मौसम RAS/UPSC

Published

on

भारत की जलवायु: भारत की जलवायु मे अनेक तरीके की विविधता पाई जाती है हर तरीके की भू-आकृति यहां पर देखी जा सकती है जैसे पहाड़ पठार पर्वत मैदान नदियां पश्चिमी घाट पूर्वी घाट थार का रेगिस्तान आदि शामिल है।

जलवायु किसे कहते हैं?

दीर्घकालीन समय में वायुमंडलीय पवनो के बदलाव को ही जलवायु कहते हैं । अगर यही प्रक्रिया छोटे अंतराल पर होती है तो उसे मौसम कहा जाता है ।

भारत देश मुख्यतः दक्षिणी-पश्चिमी मानसून पर आधारित है, यहां से उठने वाली पवने ही पूरे भारत में वर्षा का जरिया बन पाती है ।

भारत में मानसूनी जलवायु:

भारत में मुख्यतः चार ऋतु होती है जिसमें मौसम का आगमन मौसम का लौटना शीतकाल और ग्रीष्म काल शामिल है ।

जून से दिसंबर तक मौसमी हवाएं दक्षिण पश्चिमी के हाई प्रेशर से से उत्तर पूर्व के लो प्रेशर की तरफ बहती है और अपने साथ आद्रता ले जाती है जो मुख्य रूप से भारत में बरसात का कारण बनता है ।

दिसंबर से मई के बीच में भारत में सर्दी ऋतु होती है इस समय मौज में हवाएं उत्तर पूर्व के हाई प्रेशर से दक्षिण पश्चिम के लो प्रेशर की तरफ बहती है ।

भारत की जलवायु के मानसून सिद्धांत:

  1. थर्मल कांसेप्ट – हेले 1686
  2. डायनामिक/एयर मास थ्योरी फोन 1951
  3. जेट स्ट्रीम थ्योरी- पी कोटेश्वर
  4. मोनेक्स थ्योरी

भारत में मानसून का प्रारंभ:

भारत में दक्षिण पश्चिम मानसून का प्रारंभ निम्न कारणों से होता है

  1. उपोषण जेट स्ट्रीम के 2:00 से एक में परिवर्तन होने पर
  2. 66 डिग्री ईस्ट विषुवत में निम्न दाब 2 क्षेत्र के एक में परिवर्तन होने पर
  3. मालाबार तट पर पर बने निम्न दाब के आगे बढ़ने पर

राजस्थान में वर्षा कम क्यों होती है?

राजस्थान में कम वर्षा होने का मुख्य कारण यहां की भौगोलिक स्थिति है जिसके निम्न कारण है

  1. मानसूनी हवाओं का अरावली पर्वतमाला के समांतर बहने के कारण
  2. अरावली पर्वतमाला कि कम हो जाए जिससे मानसूनी पवनो को आगे बढ़ने से कोई रुकावट नहीं है
  3. यहां पर पाई जाने वाली तापीय विलोमता के कारण

Continue Reading
error: Content is protected !!